Pankaj Mullick – Yeh Raatein

Pankaj Mullick

 ये रातें
ये रातें ये मौसम ये हँसना हँसाना, ये रातें

मुझे, भूल जाना, इन्हें ना भुलाना भुलाना भुलाना
ये रातें

ये बहकी निगाहें
ये बहकी निगाहें, ये बहकी अदाएँ
ये बहकी निगाहें, ये बहकी अदाएँ
ये आँखों के काजल में डूबी घटाएँ

फ़िज़ा के, फ़िज़ा के लबों पर, फ़िज़ा के
फ़िज़ा के, लबों पर ये चुप का फ़साना

मुझे, भूल जाना, इन्हें ना भुलाना
भुलाना भुलाना
ये रातें

चमन में, चमन में जो मिल के बनी है कहानी
हमारी मुहब्बत तुम्हारी जवानी, चमन में
ये दो गर्म साँसों का इक साथ आना
ये बदली का चलना ये बूंदों की रुमझुम
ये बदली का चलना ये बूंदों की रुमझुम

ये मस्ती का आलम ये खोए से हम तुम
तुम्हारा, तुम्हारा मेरे साथ ये गुनगुनाना

मुझे, भूल जाना, इन्हें ना भुलाना
भुलाना भुलाना
ये रातें

अलफ़ाज़
चमन – small garden

This is a beautiful song of Romantic Life , favorite since last 40 Years .

off course in Indian Language Hindi yet Music is a Universal Language.

Love all.

(c) ram H singhal

Compiled for :Saturday Music Blog

Flow of Silence

One thought on “Pankaj Mullick – Yeh Raatein

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s